कांग्रेस (Congress) में नेतृत्व परिवर्तन को लेकर चिट्ठी लिखने वाले 23 वरिष्ठ नेताओं को कांग्रेस पार्टी ने किनारे लगाना शुरू कर दिया है।
सोनिया गांधी ने लिया बड़ा फैसला, चिट्ठी लिखने वाले नेताओं को किनारे लगाने के लिए बनाया ये प्लान!

New Delhi. कांग्रेस (Congress) में नेतृत्व परिवर्तन को लेकर चिट्ठी लिखने वाले 23 वरिष्ठ नेताओं को कांग्रेस पार्टी ने किनारे लगाना शुरू कर दिया है। इसके लिए सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने जयराम रमेश (Jairam Ramesh) को चीफ व्हिप नियुक्त किया है। इसके अलावा राज्यसभा के लिए एक समिति भी गठित की है, जिसमें अहमद पटेल (Ahmed Patel) और केसी वेणुगोपाल (KC Venugopal) को सदस्य बनाया गया है। बताया जा रहा है कि यह राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद (Ghulam Nabi Azad) और उपनेता आंनद शर्मा (Anand Sharma) के पर कुतरने के लिए बनाया गया है।

सोनिया गांधी ने भविष्य के खतरे को देखते हुए ऐसी ही कमेटी लोकसभा (Loksabha) के लिए भी गठित की है। जिसमें रवनीत सिंह बिट्टू (Ravneet Singh Bittu) को व्हिप और गौरव गोगोई (Gaurav Gogoi) को उपनेता बनाया है। बता दें कि कांग्रेस नेतृत्व को लेकर चिट्ठी लिखने वाले नेताओं पर पार्टी के कई नेता नाराज हैं और उन पर कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत, छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल और पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह जैसे नेताओं ने चिट्ठी लिखने को लेकर नाराजगी जताई है।

कांग्रेस ने केंद्र सरकार की ओर से घोषित प्रमुख अध्यादेशों पर चर्चा करने के लिए एक पांच सदस्यीय समिति का गठन किया है। इस समिति में पी. चिदंबरम, दिग्विजय सिंह, जयराम रमेश, डॉ. अमर सिंह और गौरव गोगोई को शामिल किया है। इसका नेतृत्व जयराम रमेश करेंगे। यह कमेटी केंद्र की ओर से जारी प्रमुख अध्यादेशों पर चर्चा और पार्टी का रुख तय करने के लिए बनाई गई है। इसमें गांधी परिवार के करीबी पांच वरिष्ठ नेताओं को जगह दी गई है, जबकि चिट्ठी लिखने वाले नेता गुलाम नबी आजाद और आनंद शर्मा को बाहर किया गया है।

वहीं, पार्टी के भीतर अंतर्कलह अभी भी जारी है। पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद (jitin Prasad) को लखीमपुर खीरी (Lakhimpur khiri) में विरोध का सामना करना पड़ा है। कांग्रेस की जिला इकाई ने जितिन प्रसाद को पार्टी से बाहर करने का प्रस्ताव पास किया है। इस प्रस्ताव पर जिला अध्यक्ष प्रहलाद पटेल और लखीमपुर खीरी के अन्य पदाधिकारियों के हस्ताक्षर हैं। बता दें कि जितिन प्रसाद उन 23 नेताओं में से एक हैं, जिन्होंने सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखी थी।

पूरी स्टोरी पढ़िए