राजस्थान (Rajasthan) में चल रहा सियासी ड्रामा ख़त्म होने का नाम नहीं ले रहा है। कांग्रेस आलाकमान से बात करने के बाद सचिन पायलट (Sachin pilot) की नाराजगी तो शांत हो गई
सचिन की घर वापसी के बाद भी तनाव बरकरार, गहलोत खेमे के विधायकों ने रख दी ये बड़ी शर्त

Jaipur. राजस्थान (Rajasthan) में चल रहा सियासी ड्रामा ख़त्म होने का नाम नहीं ले रहा है। कांग्रेस आलाकमान से बात करने के बाद सचिन पायलट (Sachin pilot) की नाराजगी तो शांत हो गई, लेकिन कांग्रेस के विधायकों की नाराजगी अभी भी बरकरार है। ऐसे में कांग्रेस के लिए बुधवार का दिन महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

जैसलमेर (Jaisalmer) में गहलोत (Ashok Gehlot) खेमे के विधायक की बैठक के बाद बुधवार को पायलट (Sachin pilot) और गहलोत खेमे के विधायकों का संयुक्त बैठक होनी है। जिसमें देखना दिलचस्प होगा कि बैठक में हंगामा होता है या फिर गिले शिकवे मिटाकर गहलोत और पायलट एक दूसरे को गले लगाते हैं। वहीं, इससे पहले कांग्रेस नेता सचिन पायलट (Sachin pilot) ने मंगलवार को कहा था कि उन्होंने पार्टी से किसी पद की मांग नहीं की है, लेकिन वह चाहते हैं कि उनके साथ आवाज उठाने वाले विधायकों के ऊपर किसी द्वेष की वजह से कोई कारवाई ना की जाए।

बता दें कि सचिन पायलट (Sachin pilot) बगावत के लगभग एक महीने बाद जयपुर (Jaipur) लौटे हैं। इसके साथ ही उन्होंने उम्मीद जताई है कि पार्टी आलाकमान द्वारा गठित तीन सदस्यीय समिति जल्द ही अपना काम शुरू करेगी। इससे पहले राजस्थान (Rajasthan) में कांग्रेस विधायक दल की बैठक मंगलवार रात हुई, जिसमें कई विधायकों ने सचिन पायलट व अन्य बागी विधायकों की वापसी पर नाराजगी भी जाहिर की थी। इस बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने सचिन पायलट (Sachin pilot) की वापसी की विधायकों को जानकारी दी थी। 

गहलोत खेमे के विधायकों ने अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि वह आलाकमान के फैसले का स्वागत करते हैं, लेकिन पायलट समर्थित विधायकों को सरकार में कोई महत्वपूर्ण पद नहीं दिया जाना चाहिए।

भाजपा ने अपनी रणनीति बदली

बता दें कि सचिन पायलट (Sachin pilot) जयपुर (Jaipur) वापस आ गए हैं, लेकिन अभी तक अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) से उनकी मुलाकात नहीं हुई है। ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि क्या गहलोत खेमे के विधायकों और पायलट खेमे के विधायकों के बीच सुलह को लेकर कोई CLP की बैठक तैयार कराई जाएगी। सूत्रों के अनुसार पायलट और गहलोत खेमे के विधायकों को विधानसभा सत्र तक जयपुर में ही ठहरने की व्यवस्था की जा रही हैं।

कांग्रेस की रणनीति को देखते हुए बीजेपी (BJP) ने भी अपनी रणनीति बदल दी है। बीजेपी ने अपने विधायक दल की बैठक गुरुवार को जयपुर के पार्टी कार्यालय में कराने की तैयारी कर रही है। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया (Satish Puniya) ने बताया कि 13 अगस्त को भाजपा प्रदेश कार्यालय में विधायक दल की बैठक आयोजित करेगी, जिसमें विधानसभा सत्र (Assambly Session) की रणनीति की चर्चा की जाएगी।

पूरी स्टोरी पढ़िए