प्रदेश के सभी परिषदीय स्कूलों (Council schools) के लिए बेहद अहम खबर सामने आई है।
Uttar Pradesh: 1 जुलाई से खुल जाएंगे सभी प्राइमरी स्कूल, लेकिन छात्र - छात्राओं के लिए ...

Lucknow. प्रदेश के सभी परिषदीय स्कूलों (Council schools) के लिए बेहद अहम खबर सामने आई है। अनलॉक - 1 में मिली रियायतों के बीच अब सरकार ने 1 जुलाई से सभी परिषदीय स्कूलों (Council schools) को खोलने का विचार कर लिया है। हालांकि अभी इन स्कूलों में सिर्फ शिक्षकों और प्रधानाध्यापकों को ही जाना होगा। बच्चों की पढ़ाई ऑनलाइन क्लास के माध्यम से  होगी। 

ये सभी स्कूल दिन में दो पाली में चलाए जाएंगे। ऑनलाइन क्लासेज के साथ ही बच्चों को मिलने वाले मिड डे मील योजना (mid day meal)  के तहत कुकिंग लागत का भुगतान और अनाज भी वितरित कराना होगा। बच्चों की ऑनलाइन क्लाजेस प्रेरणा एप के तहत ई - पाठशाला के माध्यम से करानी होगी। इतना ही नहीं प्रत्येक शिक्षक को मानव संपदा पोर्टल पर अपने सभी दस्तावेजों का सत्यापन भी कराना होगा। 

शिक्षकों को करने होंगे और भी काम

इसके अलावा शिक्षकों को और भी कामों का ध्यान रखना होगा जैसे एक जुलाई से शिक्षकों को बच्चों के रंगमंच कार्यक्रम की तरफ भी ध्यान देना होगा। स्कूलों का रंग-रोगन, मरम्मत और सौंदर्य से जुड़े कार्यों में भी हिस्सा लेना होगा। ये सभी काम ऑपरेशन कायाकल्प के जरिए से करने होंगे। 

शिक्षकों को यू-डायस पोर्टल (U-dias portal)  पर विद्यालयों में बच्चों के नामांकन, इंफ्रास्ट्रक्चर और शिक्षकों से जुड़े आंकड़े भी फीड करने होंगे। शारदा कार्यक्रम के तहत आउट ऑफ स्कूल बच्चों को चिह्नित कर उन्हें स्कूल में दाखिला दिलाना होगा। साथ ही दीक्षा एप के जरिए शिक्षकों को कौशल विकास के लिए तैयार 75 कोर्स का प्रशिक्षण दिलाया जाएगा। 

एक ही परिसर में चल रहे प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों के संविलयन के काम की भी जिम्मेदारी शिक्षकों की ही होगी। सभी स्कूलों को सैनेटाइज किया जाएगा। 

विभाग की अपर मुख्य सचिव (Additional Chief Secretary)  रेणुका कुमार ने स्कूल खोलने के बाद सबसे पहले स्कूलों को पूरी तरह सेनेटाइज कराने और साफ-सफाई कराने के निर्देश दिए हैं ताकि शिक्षकों में संक्रमण फैलने का खतरा नहीं हो।