उत्तर प्रदेश में विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद योगी सरकार अपराधियों के खिलाफ कड़ा एक्शन ले रही है। हालांकि इसी बीच यूपी की सियासत में ब्राह्मण को लेकर सियासत शुरू हो गई है।
एमएलए विजय मिश्रा का वीडियो- ब्राह्मण हूं, कभी भी हो सकता है इनकाउंटर, पुलिस ने दिया ये जवाब

Lucknow. उत्तर प्रदेश में विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद योगी सरकार अपराधियों के खिलाफ कड़ा एक्शन ले रही है। हालांकि इसी बीच यूपी की सियासत में ब्राह्मण को लेकर सियासत शुरू हो गई है। योगी सरकार को ब्राह्मण विरोधी बताने के लिए विरोधी दल लगातार प्रचार कर रहे हैं। अब यूपी के बाहुबली विधायक (MLA) विजय मिश्रा (Vijay Mishra) ने अपनी हत्या की आंशका जाहिर की है। उन्होंने कहा कि ब्राह्मण (Brahman) होने के वजह से कभी भी उनकी गिरफ्तारी हो सकती है और कभी भी उनकी हत्या कराई जा सकती है।

यूपी के भदोही विधानसभा क्षेत्र से निषाद पार्टी के बाहुबली विधायक विजय मिश्रा ने कहा कि ब्राह्मण होकर मैं चार बार से विधायक हूं। इसी वजह से मेरे पत्नी रामलली और बेटे विष्णु को फर्जी मामलों में फंसाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आगामी जिला पंचायत चुनाव में जिले का कोई चुनाव न लड़ सके, कोई बाहर का बाहुबली आकार चुनाव लड़े इसलिए मुझे पुलिस कभी भी गिरफ्तार कर सकती है। उन्होंने कहा कि बलिया, चन्दौली या बनारस का कोई माफिया, आकर चुनाव लड़े, इसलिए उनकी हत्या भी कराई जा सकती है।

सूत्रों के मुताबिक, विधायक विजय मिश्रा (MLA Vijay Mishra), मिर्जापुर सोनभद्र एमएलसी रामलली मिश्रा और उनके बेटे पर कृष्ण मोहन तिवारी नामक युवक ने मारपीट और संपत्ति हड़पने का आरोप लगाया था। पुलिस आठ अगस्त को तीनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है और विधायक विजय मिश्रा (Vijay Mishra) पर धमकी देने के आरोप में गुंडा एक्ट लगा दिया था। जिस पर विधायक ने कहा कि प्रशासन उनके खिलाफ षड्यंत्र कर रहा है। उन्होंने अपने ऊपर लगे आरोपों को गलत बताया है। 

राज्यसभा चुनाव में बीजेपी को वोट दिया था

बता दें कि यह वही विधायक विजय मिश्रा हैं, जिन्होंने 2018 के राज्यसभा चुनाव में अपनी पार्टी से बगावत करके बीजेपी को वोट दिया था। इनका राजनीतिक करियर 30 साल पहले कांग्रेस पार्टी (Congress party) से ब्लॉक प्रमुख बनने से शुरू हुआ था। इसके बाद उन्होंने समाजवादी पार्टी से 2002, और 2007 और 2012 में चुनाव जीतकर विधायक बने थे।

इस बार समाजवादी ने टिकट नहीं दिया तो वह निषाद पार्टी के टिकट पर ज्ञानपुर विधानसभा सीट से 2017 में चुनाव जीतकर विधायक बने। भदोही पुलिस (Bhadohi Police) के मुताबिक उन पर 73 मुकदमें दर्ज हैं, अपने आपराधिक मामलों से ध्यान भटकाने के लिए उन्होंने सोशल मीडिया पर वीडियो डाला है।

पूरी स्टोरी पढ़िए