सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने भाजपा (BJP) पर एक बार फिर जोरदार हमला बोला है। सीएम गहलोत ने कहा कि भाजपा के मुंह पर सरकार गिराने का खून लग चुका है।
सीएम गहलोत का बड़ा बयान, कहा- अब  BJP कभी सरकार गिराने की साजिश नहीं करेगी

Jaipur. राजस्थान (Rajasthan) में विधायकों की खरीद-फरोख्त (Horse Treding) के आरोपों से शुरू हुआ सियासी घमासान अभी भी जारी है। प्रदेश में सचिन पायलट (sachin Pilot) और कांग्रेस (Congress) के 19 विधायकों की बगावत के अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot Government) पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं। इसी बीच सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने भाजपा (BJP) पर एक बार फिर जोरदार हमला बोला है। सीएम गहलोत ने कहा कि भाजपा के मुंह पर सरकार गिराने का खून लग चुका है। वह कर्नाटक और मध्यप्रदेश के बाद राजस्थान में भी सरकार गिरने की कोशिश कर रही है। लेकिन राजस्थान भाजपा को ऐसा संदेश देगा कि आगे से उसे किसी सरकार को गिराने की हिम्मत नहीं होगी।

शनिवार को जैसलमेर रवाना होने से पहले अशोक गहलोत ने इस मामले में पहली बार केंद्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान (Union Minister Dharmendra Pradhan) और पीयूष गोयल (Piyush Goyal) का नाम लिया। उन्होंने कहा कि कई केंद्रीय मंत्री सरकार गिराने की साजिश में लगे हुए हैं। पूरा गृह मंत्रालय (Home Ministry) उनकी सरकार गिराने में लगा हुआ है। उन्होंने कहा कि कई नाम छुपे रुस्तम की तरह हैं। हमें किसी की परवाह नहीं, सिर्फ लोकतंत्र की परवाह है। लोकतंत्र में लड़ाई विचारधारा, नीतियों की होती है। लड़ाई चुनी हुई सरकार को बर्बाद करने या गिराने की नहीं होती। फिर लोकतंत्र कहां बचेगा? 

केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत (Union Minister Gajendra Singh Shekhavat) पर निशाना साधते हुए सीएम गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने कहा कि भाजपा में वसुंधरा राजे का विकल्प बनने की प्रतिस्पर्धा छिड़ी है। केंद्रीय मंत्री तो सीएम बनने का ख्वाब देख रहे थे, लेकिन उनका प्लेन चढऩे से पहले ही क्रेश हो गया।

गहलोत सरकार पर संकट

बता दें कि सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) के खेमे ने दावा किया है कि उनके पास 109 विधायकों का समर्थन है, लेकिन सिर्फ 92 विधायक ही जयपुर से जैसलमेर पहुंचे हैं, जबकि चार मंत्री समेत 7 विधायक जयपुर (Jaipur) में ही हैं। इन सबको मिलाकर कांग्रेस (Congress) के पास 99 विधायक होते हैं जो उनके दावे से 10 कम हैं। वहीं, राजस्थान विधानसभा में मौजूदा समय में विधायकों की संख्या 200 है। 

ऐसे में विधानसभा में बहुमत के लिए 101 विधायकों के समर्थन की जरूरत है। सीएम गहलोत को बहुमत साबित करने के लिए सीपीएम के विधायक बलवान पूनिया (Balvan Punia) ने कुछ समय पहले साथ देने का भरोसा दिलाया था, लेकिन अब बलवान पूनिया (Balvan Punia) न जयपुर में बाड़ेबंदी में थे न ही जैसलमेर गए।