यूपी सरकार में राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार स्वाति सिंह एक बार फिर सुर्खियों में हैं। स्वाति सिंह इस बार नायब तहसीलदार पर अमर्यादित टिप्पणी को लेकर विवादों में गिर गयी हैं।
मंत्री स्वाति सिंह के खिलाफ वकीलों और लेखपालों की हड़ताल, जानें पूरा मामला

New Delhi. यूपी सरकार में राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार स्वाति सिंह एक बार फिर सुर्खियों में हैं। स्वाति सिंह इस बार नायब तहसीलदार पर अमर्यादित टिप्पणी को लेकर विवादों में घिर गयी हैं। उन्होंने नायब तहसीलदार मनीष त्रिपाठी को फटकारते हुए कहा था कि....तुम नायब तहसीलदार हो या गुंडा। वहीं, मंत्री के इस बयान के विरोध में वकील और राजस्व कर्मी आ गए हैं।

जानकारी के मुताबिक मंत्री स्वाति सिंह के बयान के खिलाफ वकील और लेखपाल हड़ताल पर चले गए हैं। लेखपालों ने सरोजनीनगर तहसील में सांकेतिक कार्य बहिकष्कार किया। अधिवक्ताओं ने भी मंत्री के खिलाफ नारेबाजी की और मार्च निकाला। दूसरी तरफ सरोजनीनगर तहसील बार एसोसिएशन ने भी इस मामले में नाराजगी जताई है। लेखपालों कहना है कि सार्वजनिक रूप से नायब तहसीलदार को गुंडा कहे जाने से तहसील कर्मी आहत हैं। जन प्रतिनिधियों से ऐसे व्यवहार की अपेक्षा कतई नहीं की जा सकती है।

वहीं, अपने बयान पर सफाई देते हुए मंत्री स्वाती सिंह ने कहा कि सरोजनीनगर में अवैध खनन की शिकायतें आ रही हैं। मंगलवार को तहसील दिवस में जनसुनवाई के दौरान वह ग्रामीणों से वार्ता कर रही थीं। वहां नायब तहसीलदार उपस्थित नहीं थे। खनन में नायब तहसीलदार मनीष त्रिपाठी की संलिप्तता की शिकायत मिल रही थी।

पूरी स्टोरी पढ़िए