Kanpur Encounter पर गरमाई राजनीति, विपक्ष ने योगी सरकार पर लगाए गंभीर आरोप
Kanpur Encounter पर गरमाई राजनीति, विपक्ष ने योगी सरकार पर लगाए गंभीर आरोप

Kanpur. यूपी के कानपुर (Kanpur) में गुरुवार रात दबिश देने पहुंची पुलिस टीम (Police Team) पर हमले से पूरे प्रदेश में हड़कम्प मचा हुआ है। इस हमले में एक डीएसपी (DSP) और 3 सब इंस्पेक्टर (Sub-Inspetor) समेत कुल 8 पुलिसकर्मी शहीद (Police  Martyr) हो गए। पुलिस टीम कुख्यात अपराधी विकास दुबे (Vikas Dubey) को पकड़ने पहुंची थी। इस दौरान पहले से घात लगाए बैठे दुबे की गैंग ने पुलिस टीम पर हमला कर दिया। अब इसको लेकर प्रदेश की राजनीति भी गरमाने लगी है। पुलिसकर्मियों की शहादत पर तमाम विपक्षी दलों ने दुख व्यक्त करते हुए योगी सरकार पर जोरदार हमला बोला। 

विपक्षी दलों का सरकार पर हमला

प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने ट्वीट करके कहा कि कानपुर की दुखद घटना में पुलिस के 8 वीरों की शहादत को श्रद्धांजलि! सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने आगे लिखा, उत्तर प्रदेश के आपराधिक जगत की इस सबसे शर्मनाक घटना में ‘सत्ताधारियों और अपराधियों ‘की मिलीभगत का ख़ामियाज़ा कर्तव्यनिष्ठ पुलिसकर्मियों को भुगतना पड़ा है। अपराधियों को जिंदा पकड़कर वर्तमान सत्ता का भंडाफोड़ होना चाहिए। 

अखिलेश ने एक अन्य ट्वीट आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार (BJP Goverment) अपनी पोलपट्टी खुलने के डर से आनन-फ़ानन में मुख्य अपराधी को न पकड़कर छोटी-मोटी मुठभेड़ दिखाने का नाटक करवा रही है। इससे पुलिसकर्मियों का मनोबल और गिरेगा तथा पुलिस का आक्रोश भी बढ़ेगा। सरकार तुरंत मुआवज़ा घोषित करे व परिजनों को हर संभव संरक्षण दे। 

वहीं, कांग्रेस महासचिव (Congress General Secretary) प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने अपने ट्वीट में लिखा कि कानपुर की भयावह घटना की खबर आई ही थी कि प्रयागराज में एक परिवार के चार लोगों की हत्या कर दी गई। गाजियाबाद में पिता-पुत्री की हत्या कर दी गई। उत्तर प्रदेश में अपराधियों का इस तरह हावी हो जाना असामान्य है। इस #जंगलराज को देखते हुए जवाबदेही तो फिक्स करनी ही होगी।

बहुजन समाज पार्टी (Bahujan Samaj Party) की मुखिया मायावती (Mayawati) ने भी ट्वीट करके योगी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने लिखा कि कानपूर में शातिर अपराधियों द्वारा एक भिड़न्त में डिप्टी एसपी सहित 8 पुलिसकर्मियों की मौत व 7 अन्य के आज तड़के घायल होने की घटना अति-दुःखद, शर्मनाक व दुर्भाग्यपूर्ण। स्पष्ट है कि यूपी सरकार को खासकर कानून-व्यवस्था के मामले में और भी अधिक चुस्त व दुरुस्त होने की जरूरत है।

मायावती ने आगे लिखा कि इस सनसनीखेज घटना के लिए अपराधियों को सरकार को किसी भी कीमत पर छोड़ना नहीं चाहिए, चाहे इसके लिए विशेष अभियान चलाने की जरूरत क्यों न पड़े। सरकार मृतक पुलिस के परिवार को समुचित अनुग्रह राशि के साथ ही परिवार के किसी सदस्य को नौकरी भी दे, बीएसपी की यह मांग है।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने मांगी

कानपुर एनकाउंटर (Kanpur Encounter) को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) ने घटना की रिपोर्ट मांगी है और साथ ही डीजीपी एचसी अवस्थी (DGP HC Awasthi) से अपराधियों पर कड़ी कार्रवाई का निर्देश दिया है। सीएम योगी ने पूरे मामले की रिपोर्ट भी मांगी है। पुलिसकर्मियों की शहादत पर मुख्यमंत्री योगी ने संवेदना व्यक्त की है। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट करके कहा कि जनपद कानपुर में 'कर्तव्य पथ' पर अपना सर्वस्व न्योछावर करने वाले 08 पुलिसकर्मियों को भावभीनी श्रद्धांजलि। शहीद पुलिसकर्मियों ने जिस अपरिमित साहस व अद्भुत कर्तव्यनिष्ठा के साथ अपने दायित्वों का निर्वहन किया, उ.प्र. उसे कभी भूलेगा नहीं। उनका यह बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा।

कौन हैं विकास दुबे

बिठूर के शिवली थाना क्षेत्र के बिकरु गांव का रहने वाला विकास दुबे (Vikas Dubey) यूपी का एक कुख्यात बदमाश रहा है। एसटीएफ ने विकास दुबे को 31 अक्टूबर 2017 को लखनऊ के कृष्णानगर क्षेत्र से विकास को गिरफ्तार किया था। वह कुछ दिन पहले जेल से बाहर आया था। दुबे की पैठ हर राजनीतिक दलों (Political Parties) में रही है इसी वजह से आज तक कानून भी उसका कुछ नहीं बिगाड़ सका। दुबे ने अपने घर को किले की तरह बना रखा है। उसके ऊपर जमीनों की अवैध खरीद फरोख्त का आरोप है। उसने गैर कानूनी तरीके से करोड़ों रुपये की संपत्तियां बनाई। उस पर 60 से ज्यादा गंभीर धाराओं में मामले दर्ज हैं।