International Friendship Day- दोस्ती एक ऐसा रिश्ता है, जिसे खून के रिश्ते की जरूरत नहीं होती है। अगर हमारी जिंदगी में दोस्त न हों तो जिंदगी कितनी बोरिंग (Boring) लगती है।
International Friendship Day- जानें क्या है फ्रेंडशिप डे का इतिहास?

New Delhi. कोरोना महामारी (Corona Epidemic) की वजह से न सिर्फ रिश्तेदारों बल्कि दोस्तों के बीच में भी दूरियां नजर आने लगी हैं। लॉकडाउन (Lockdown) लगने की वजह से दोस्तों के बीच पार्टियां (Party) भी नहीं हो पा रहीं हैं। दरअसल, कोरोना (Corona) के मामले दिन-प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे में लोग पहले की तरह न तो मिल पा रहे हैं और न ही जादू की झप्पी दे पा रहे हैं। 

दोस्ती एक ऐसा रिश्ता है, जिसे खून के रिश्ते की जरूरत नहीं होती है। अगर हमारी जिंदगी में दोस्त न हों तो जिंदगी कितनी बोरिंग (Boring) लगती है। हम किससे अपनी बातें शेयर (Share) करें या किसकी टांग खींचें... हंसना-रूठना, मज़ाक करना यही तो दोस्ती है और फ्रेंडशिप डे पर दोस्तों की बात न हो, ये कैसे हो सकता है।

फ्रेंडशिप डे का इतिहास

दोस्ती के इस दिन की शुरुआत साल 1919 में सबसे पहले हालमार्क कार्ड (Hallmark card) के संस्थापक जोस हाल ने की थी। इसके बाद 1935 में पहली बार यूनाइटेड स्टेट्स कांग्रेस (United Status Congress) ने अगस्त के पहले रविवार को फ्रेंडशिप डे मनाने की घोषणा की थी। इसे पहली बार अमेरिका (America) में मनाया गया था। 

भारत (India) में अगस्त के पहले रविवार (Sunday) को फ्रेंडशिप डे मनाया जाता है। वहीं, दक्षिण अमेरिकी (South America) देशों में जुलाई महीने को काफी पावन माना जाता है। इसलिए जुलाई के अंत में ही इस दिन को मनाया जाता है। बांग्लादेश (Bangladesh) और मलेशिया (Malaysia) में डिजिटल कम्युनिकेशन (Digital Communication) के तहत यह दिन ज्यादा चर्चित हो गया है।

यूनाइटेड नेशन्स (United Nations) ने भी इस दिन पर अपनी मुहर लगा दी थी। करीब 60 साल पहले 1958 में पहली बार फ्रेंडशिप डे को अंतरराष्ट्रीय (International) मान्यता प्राप्त हुई, जब दक्षिण अमेरिका के कई देशों ने खासतौर पर पराग्वे (Paraguay) में इस दिन को मनाया था।

वहीं मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, फ्रेंडशिप डे के 10वें साल फेमस बैंड बीटल्स (Famous Band Beatles) ने 1967 में एक गाना रिलीज किया था "With Little Help From My Friends", जो दुनियाभर में लोगों के बीच काफी फेमस हुआ था। हमारे बॉलीवुड (Bollywood) में भी दोस्ती को अहम दर्जा दिया गया है। जिस पर तमाम तरह की बेहतरीन फिल्में बनाई गई हैं। इनमें खास है- 'याराना' 'दोस्ती','शोले ','दिल चाहते हैं'।